Menu

The lecture method (व्याखान विधि)

The lecture method (व्याखान विधि)

  व्याख्यान विधि

What is the lecture method?

  • यह teaching की सबसे oldest method है।
  • Lecture method में teacher more active होता है वही student passive listner होते हैं।
  • Lecture method presentation पर based है यानी कि इस method में content को presentation के द्वारा स्टूडेंट के सामने पेश किया जाता है और इसमें स्टूडेंट की ability किसी भी प्रकार से consider नहीं की जाती है।

# Definition of lecture method


Lecture method एक teaching procedure है जिसमें content को present करना, doubt को clarify करना, facts को explain करना, pricniples और students के साथ relationship maintain करना शामिल है।

# Purposes of the lecture method


  • Students में सोचने की क्षमता (thinking power) का विकास करना
  • Students में concentration power का विकास करना
  • Students में habit of listning & learning का विकास करना
  • Students में cognitive objective (मानसिक कौशल) का विकास करना
  • Lecture method में problems को facts के आधार पर solve करना


# Components of the lecture method

1. Introduction to the lecture

  • यह 3 से 5 मिनट का होता है।
  • Teacher topic के बारे framework और general idea अपने student को देते है।
  • Teacher, students में topic के प्रति intrest generate करते है।
  • Teacher, students के साथ friendly communication establish करता है।
  • Teacher खुद को introduce करता है।
  • Teacher, students के pre-existing knowledge का पता लगाता है।
  • इसमें teacher कभी भी एकदम से topic को announce नही करता, पहले topic के बारे में intrest पैदा करता है।

2. Body of the lecture

  • इसमें lecture के content matter को organized way में प्रस्तुत किया जाता है।
  • Teacher, students को class में attentive (सचेत) रखने के लिये questioning (प्रशन पूछना) करता रहता है।
  • Teacher topic के बारे में बहुत से example देता रहता है।

3. Conclusion

  • इसमें teacher lecture को फिर से summarize कराता है और topic के key-point अपने students को बताता है।
  • Teacher, students से feedback लेता है।
  • Teacher, students के doubt को solve करता है।
_____________________________________________

Written by : Dev chaudhary

यह आर्टिकल कैसा लगा हमें comment section में comment करके बताये और नये सुझावों के लिये अपना तर्क दे।
हम आपके उचित सुझावों का सम्मान करेंगे।


Ads middle content1

Ads middle content2