Menu

Psoriasis: Definition, Types, Sign & symptoms and More (in hindi)

Psoriasis: Definition, Types, Sign & symptoms and More (in hindi)


What is the psoriasis? in hindi

  • Psoriasis एक लंबे समय तक चलने वाला(chronic) स्व-प्रतिरक्षित रोग(auto-immune disease) है जिसके कारण त्वचा पर असामान्य लाल, या बैंगनी रंग के निशान बनने लगते हैं। ये निशान या घाव(lesions) सूखे(dry), पपड़ीदार(scaly) और खुजलीदार(itchy) होते है।
  • Psoriasis के कारण त्वचा की basal layer में cell का तेजी से विभाजन होने लगता है जिससे त्वचा की ऊपरी सतह(epidermis) पर पपड़ी(scale) बनने लगती है और keratin का जमाव होने लगता है।
  • कभी-कभी त्वचा पर मामूली सी चोट या रगड़ त्वचा में psoriatic परिवर्तनों को ट्रिगर कर सकती है, जिसे Koebner phenomenon (कोबनेर घटना) के रूप में जाना जाता है। 
  • Psorasis अक्सर 15-35 साल के  को ज्यादा प्रभावित करता है।

# DEFINITION OF PSORIASIS

एक ऐसी स्थिति जिसमें त्वचा की कोशिकाएं(cells) अनियमित रूप से बढ़ती हैं जिससे त्वचा पर शुष्क(dry), पपड़ीदार(scaly), खुजलीदार(Itchy) पैच(निशान) बनने लगते हैं।

# RISK FACTORS / ETIOLOGICAL FACTOR OF PSORIASIS

    Psoriasis
  • किसी प्रकार की चोट(Trauma)
  • संक्रमण(infection): Streptococcal pharyngitis (बैक्टेरिया) और किसी प्रकार के skin infection से
  • Harmonal परिवर्तन
  • Seasonal & Hormonal changes
  •  तनाव (Stress)
  • Family history
  • धूम्रपान (Smoking)
  • मोटापा 

# TYPES OF PSORIASIS


PSORIASIS
1. Plaque Psoriasis (प्लाक सोरायसिस): यह सबसे सामान्य प्रकार का psoriasis है। इसमें रोगी की त्वचा पर शुष्क लाल पैच(प्लाक)(dry red patch) बन जाते है जो सिलवरी परत(silvery layer) से कवर रहते है। रोगी को प्लाक वाली सतह पर खुजली और दर्द होता है।


psoriasis2. Nail psoriasis (नेल सोरायसिस): इसमें रोगी के हाथ व पैर की अंगुलियों के नाखूनों का असामान्य आकार, रंग में बदलाव और नाखून का उनकी सतह से अलग हो जाते है। गंभीर अवस्था मे नाखून उखड़ भी सकते है।



psoriasis3. Guttate psoriasis (गटेट सोरायसिस): यह आमतौर पर युवाओं और बच्चो में देखने को मिलता है। यह पहले से उपस्थित किसी प्रकार के बैक्टीरियल संक्रमण(bacterial infection) से प्रभावित होकर होता है। इसमें त्वचा पर छोटी बूंदों(small dropes) के आकार के lesions बन जाते है। यह समस्या सामान्य तौर पर बाजू(shoulder), पैर, गर्दन के पास और स्कैल्प में पायी जाती है।

psoriasis4. Inverse psoriasis (इनवर्स सोरायसिस): इस प्रकार का psoriasis सामान्यतः बगल(armpit) में, दोनों जांघो के बीच (groin) में, और स्तनों के नीचे(under the breast) पाया जाता है। त्वचा पर लाल स्मूथ पैच(red smooth patch) बन जाते है। पसीने और त्वचा के रगड़ने के कारण यह समस्या होती है।


psoriasis5. Pustular psoriasis (पुस्टूलर सोरायसिस): यह सबसे असामान्य प्रकार का psoriasis है। इसमें हाथ-पैर और फिंगरटिप पर मवाद से भरे ब्लिस्टर(pus-filled blister) बन जाते है। इसमें रोगी को बुखार, दस्त और अत्यधिक खुजली होती है।

psoriasis
6. Erythrodermic psoriasis (एरिथ्रोडर्मिक सोरायसिस): यह सबसे कम लोगो मे पाया जाने वाला  का प्रकार है। इसमें रोगी के पूरे शरीर पर लाल रंग के रेशेज बन जाते है। इन रेशेज के कारण असहनीय जलन के साथ खुजली भी होती है।


psoriasis
7. Psoriatic arthritis (सोरायटिक आर्थराइटिस): psoriatic = psoriasis  arthritis = joint pain इस प्रकार के psoriasis में शरीर के जोड़ो में सूजन और दर्द के साथ त्वचा पर स्केल पड़ जाते है।


# PATHOPHYSIOLOGY OF PSORIASIS

Due to etylogical factor (eg. Infection, trauma,etc.)
Inflammatory reaction का आरंभ

WBC (dendritic cells, macrophages & T-cell) का activation होना
इन immune cells के द्वारा ctyokines (inflammatory chemical signals) का secretion
जिससे keratenocytes (skin cells) का समय से पहले mature हो जाना
Skin cells का 3-5 दिनों में replacement होने लगना
(सामान्यतः इस घटना को 28-30 दिन लगते है)
जिससे ऊपरी त्वचा पर silvary scale (सिलवरी पपड़ी) बनने लगती है
Psoriasis

*जब भी हमारे शरीर में कोई foreign particle प्रवेश करता है तो inflammatory reaction का प्रारंभ होता है। जिससे हमारे शरीर की रक्षक कोशिकाएं (WBC) activate हो जाती है। ये रक्षक कोशिकाएं यानी WBC एक सिग्नल केमिकल का स्त्राव करती है जिसे cytokines कहते है। यहां तक की प्रक्रिया हर inflammatory process में उपस्थित होती है। 

# SIGN AND SYNONYMS

  • लाल रंग के, उभरे हुए(raised) पैच(patch) जो silvery layer से कवर रहते है।
  • ये lesions/patch खुजलीदार होते है और भयानक अवस्था में त्वचा पर crack आ सकते है जिनसे bleeding भी हो सकती है।
  • अलग -अलग तरह के Psoriasis में अलग-अलग तरह के लक्षण देखने को मिलते है। (जिनके बारे में ऊपर बता दिया गया है) 

# MANAGEMENT OF PSORIASIS

1. MEDICAL MANAGEMENT:

    उद्देश्य:

  • कोशिका(cell) की अनियमित रूप से चल रही cell-cycle को रोकना ताकि keratenocytes की अनियमित वृद्धि को रोका जा सके (जिससे ये keratenocytes त्वचा पर जाकर scales का निर्माण करना बंद कर दे)
  • Psoriatic scales(पपड़ी) को medication की सहायता से हटाना।


2. PHARMACOLOGICAL MANAGEMENT:

A) Topical medication: (topical=त्वचा पर)
  • Triamcinolone acetonide
  • Betamethasone
  • Fluocinonide
  • Desonide
  • Hydrocortisone
  • Betamethasone dipropionate

B) Medicated shampoo:
  • Neutrogena
  • Head & shoulder

3. PHOTOCHEMOTHERAPY:        

पराबैंगनी-बी (UV-B), जो प्राकृतिक धूप में मौजूद है, सोरायसिस के लिए एक प्रभावी उपचार है। UV-B त्वचा में प्रवेश करती है और प्रभावित त्वचा कोशिकाओं के विकास को धीमा कर देती है। 
 Psoriasis के उपचार के लिए निर्धारित तरंग दैर्ध्य(wavelength) की कृत्रिम(artificial) UV-B लाईट  के संपर्क   में psoriasis वाले त्वचा के भाग को लाते है।   

Ads middle content1

Ads middle content2